रचनात्मकता की कला – Hindi Story for Kids

एक बार, दो सबसे अच्छे दोस्त थे, रवि और अर्जुन, एक शांत भारतीय गाँव में रहते थे। उन्हें चित्र बनाना और रंग भरना बहुत पसंद था।

एक दिन रवि को एक कागज का टुकड़ा मिला। यह सफ़ेद, चिकना और चित्रकारी के लिए एकदम सही था। “देखो अर्जुन!” रवि ने कहा। “मुझे एक कागज़ मिला।”

“मुझे भी एक मिल गया, रवि,” अर्जुन ने उत्तर दिया, एक झुर्रीदार, थोड़ा फटा हुआ कागज का टुकड़ा।

रवि हंसा और बोला, “तेरा कागज फटा है अर्जुन। यह चित्र बनाने के लिए अच्छा नहीं है।”

अर्जुन ने मुस्कुराते हुए कहा, “एक सच्चा कलाकार किसी भी चित्रफलक को सुंदर बना सकता है, रवि।”

उन दोनों ने एक चित्रकारी प्रतियोगिता कराने का फैसला किया। उन्होंने अगले दिन अपने चित्र देखने के लिए पूरे गाँव को आमंत्रित किया।

रवि सारा दिन अपने चिकने कागज पर चित्र बनाने में लगा रहा। उसने पहाड़ों, नदियों और चमकदार सूरज को चित्रित किया। यह सुंदर लग रहा था।

अर्जुन ने वही समय अपने फटे हुए कागज पर चित्र बनाने में बिताया। उन्होंने बड़ी चतुराई से लकड़ी के भूसे का उपयोग अनोखी आकृतियाँ बनाने के लिए किया।

अगले दिन, सभी चित्र देखने के लिए इकट्ठे हुए। सबसे पहले रवि ने अपना चित्र प्रस्तुत किया। लोगों ने उनकी खूबसूरत तस्वीर की तारीफ की।

फिर, अर्जुन ने अपना चित्र दिखाया। सभी आश्चर्य से काँप उठे। अर्जुन ने लकड़ी के भूसे को सुंदर वृक्षों में बदल दिया था।

गाँव के बुजुर्ग ने कहा, “दोनों चित्र अच्छे हैं। लेकिन अर्जुन का चित्र अद्वितीय है। उसने फटे हुए हिस्सों का रचनात्मक रूप से उपयोग किया है।”

रवि को अर्जुन के कागज़ पर हंसने के लिए बुरा लगा। खामियों को खूबसूरती में बदलने की उसे अपने दोस्त की प्रतिभा का एहसास हुआ।

अर्जुन मुस्कुराया और बोला, “देखो रवि, बात कागज की नहीं है। बात इस बात की है कि तुम इसका इस्तेमाल कैसे करते हो।”

रवि ने सिर हिलाया और कहा, “आप सही कह रहे हैं, अर्जुन। मैंने आज एक मूल्यवान सबक सीखा।”

वे दोनों गले मिले और तब से एक-दूसरे की क्षमताओं का अधिक सम्मान करने का वादा किया।

This Hindi Story for Kids Says That:

कहानी का नैतिक: आपके पास क्या है यह महत्वपूर्ण नहीं है, बल्कि यह मायने रखता है कि आप इसका उपयोग कैसे करते हैं।

Image Credit:- https://www.montereybayparent.com/articles/FamilyFun/creativity-kids-why-the-arts-are-so-important/

Leave a comment