एक नई सुबह के लिए जागृति: प्रगति की ओर यात्रा

सुबह की किरण बीते अंधेरे को छोड़, आयी अपना सन्देश ले,
सपनों की रानी जाग उठी, खोयी खोयी आँखों में झिलमिलायी वो उम्मीद के बीज।
हर्षित मन में खुशियों की लहरें लहराईं, नया सवेरा जीवन को स्वागत कहे,
अब सोचो नहीं, नयी दिशाओं में बढ़ो, वक्त के साथ प्रगति के पथ पर चलो।

Leave a comment