आभासी ब्रह्मांड – Sanskrit Shlok

Sanskrit Shlok

अनन्तरंगे निहितं, अलिखितं लेखनैः।ज्ञानस्य कोषः अमितः, किं तत्सत्यं वदाम्यहम्?॥ हिंगलिश स्लोक: Anantaramge nihitam, alikhitaṁ lekhanaih. Jñanasya koshaḥ amitaḥ, kim tatsatyam vadaamyaham? हिन्दी अनुवाद: अनंत लोकों में छिपा हुआ, शास्त्रियों द्वारा अलिखित। ज्ञान का अथाह भण्डार, कौन-सा सत्य कहूँ? पहेली का उत्तर: इंटरनेट। Sanskrit Shlok का सार: श्लोक कुछ ऐसा वर्णन करता है जो अनंत क्षेत्रों … Read more

मेघ रहस्य – Sanskrit Shlok

Sanskrit Shlok

विकसन्नपि संकुचितं, जलदात्मकं विभो।आकाशं पृथिवीं छायया, किं तत्सत्यं वदाम्यहम्?॥ हिंगलिश स्लोक: Vikasannapi sankuchitam, jaladatmakam vibho. Akasham prithiveem chhayaya, kim tatsatyam vadaamyaham? हिन्दी अनुवाद: पानी के सार को मूर्त रूप देते हुए, विस्तारित होते हुए भी संकुचित। आकाश और पृथ्वी को छायांकित करता हूँ, मैं कौन सा सत्य कहो ? पहेली का उत्तर: बादल। Sanskrit Shlok … Read more

ऊर्जा रहस्य – Sanskrit Shlok

Sanskrit Shlok

नैव स्वयं चलति यदि, परं चलने प्रवर्तते।क्षयं याति च योग्यता, किं तत्सत्यं वदाम्यहम्?॥ हिंगलिश स्लोक: Naiva swayam chalati yadi, param chalane pravartate. Kshayam yati cha yogyata, kim tatsatyam vadaamyaham? हिन्दी अनुवाद: यह अपने आप नहीं चलती बल्कि दूसरों को चलाती है। और अपनी क्षमता खो देता है, मैं कौन सा सत्य बोलो? पहेली का उत्तर: … Read more

चंद्र विरोधाभास: – Sanskrit Shlok

Sanskrit Shlok

सुक्ष्मं स्थूलतरं चेति, द्वयं रूपं विचक्षणैः।पुराणं नवयौवनं, किं तत्सत्यं वदाम्यहम्?॥ हिंगलिश स्लोक: Suksmam sthulataram cheti, dvayam rupam vichakshanaih. Puranam navayaunam, kim tatsatyam vadaamyaham? हिन्दी अनुवाद: सूक्ष्म और स्थूल, ज्ञानियों द्वारा दो रूपों में देखे जाते हैं। बूढ़ा फिर भी हमेशा के लिए जवान, मैं कौन सा सच बोलो? पहेली का उत्तर: चांद। Sanskrit Shlok का … Read more

अग्नि का रहस्य: एक श्लोक पहेली – Sanskrit Shlok

Sanskrit Shhlok

निजनाशे जननं ददाति, पुनर्जन्म निजनाशने।अनित्यं स्थिरतां याति, किं तत्सत्यं वदाम्यहम्?॥ हिंगलिश स्लोक: Nijanashe jananaṁ dadaati, punarjanma nijanasane. Anityam sthiratam yati, kim tatsatyam vadaamyaham? हिन्दी अनुवाद: अपने विनाश में जन्म देती है, अपने ही निधन में पुनर्जन्म लेती है। अनित्य फिर भी स्थिर हो जाता है, मैं कौन-सा सत्य कहो? पहेली का उत्तर: फीनिक्स या आग। … Read more

वायु की छलबल: एक श्लोक पहेली – Sanskrit Shlok

Sanskrit Shlok

स्वयं न स्थायते क्वचित्, अन्येषां गतिमाचरेत्।अप्रतिहतगामिनी, किं तत्सत्यं वदाम्यहम्?॥ हिंगलिश स्लोक: Swayam na sthayate kvachit, anyesham gatimaacharet. Apratihatagaaminee, kim tatsatyam vadaamyaham? हिन्दी अनुवाद: यह अपने आप स्थिर नहीं रहता, दूसरों को गति प्रदान करता है। निर्विघ्न विचरता है, मैं कौन-सा सत्य कहो? पहेली का उत्तर: पवन या वायु। Sanskrit Shlok का सार: यह श्लोक किसी … Read more

अदृश्य रोशनी – Sanskrit Shlok

Sanskrit Shlok

अन्तःस्थितं परं ज्योतिः, सर्वव्यापी न लक्ष्यते।अप्रमेयमनन्तं च, किं तत्सत्यं वदाम्यहम्?॥ हिंगलिश स्लोक: Antahsthitam param jyotih, sarvavyapi na lakshyate. Aprameyamanantam cha, kim tatsatyam vadaamyaham? हिन्दी अनुवाद: परम प्रकाश भीतर है, व्याप्त है, पर दिखाई नहीं पड़ता। अथाह और अनंत, मैं कौन सा सत्य बोलों? पहेली का उत्तर: ईश्वर। Sanskrit Shlok का सार: श्लोक किसी ऐसी चीज … Read more

जीवन की धड़कन – Sanskrit Shlok

Sanskrit Shlok

एकेन चरति सर्वत्र, द्विभुजं न विनाश्यति।अनुप्राणति जीवानां, किं तत्सत्यं वदाम्यहम्?॥ हिंगलिश स्लोक: Ekena charati sarvatra, dvibhujam na vinashyati.Anupraanati jeevaanam, kim tatsatyam vadaamyaham? हिन्दी अनुवाद: एक से सब जगह चलती है, दो भुजाओं से नहीं मिटती। जीवितों को जीवन देता है, मैं कौन-सा सत्य बोलों? पहेली का उत्तर: हृदय। Sanskrit Shlok का सार: श्लोक किसी ऐसी … Read more

अदृश्य पर्यवेक्षक: Sanskrit Shlok

Sanskrit Shlok

अदृश्यं गृहित्री यत् तु दृश्यमेव विश्वसृत्।अनादिनिधनं चेतनम्, किं तत्सत्यं वदाम्यहम्?॥ हिंगलिश स्लोक: Adrishyam grihatri yat tu drishyameva vishwasrut. Anadinidhanam chetanam, kim tatsatyam vadaamyaham? हिन्दी अनुवाद: द्रष्टा देखा नहीं जा सकता है लेकिन सारी सृष्टि को देखता है। न आदि न अंत, होश में, मैं कौन सा सत्य बोलता हूँ? उत्तर: मन या चेतना। Sanskrit Shlok … Read more

शाश्वत पहेली: आत्मा पर एक श्लोक पहेली

SANSKRIT SHLOK

नवद्वारपुरी दीप्ता, नैव कुर्वन्न कारयन्।निर्विकल्पं निराकारं, किं तत्सत्यं वदाम्यहम्?॥ हिंगलिश स्लोक: Navadwarapuri deepta, naiva kurvann karayan. Nirvikalpam niraakaram, kim tatsatyam vadaamyaham? हिन्दी अनुवाद: यह शहर में नौ द्वारों से चमकता है, न तो आकर्षित करता है और न ही कारण बनता है।बिना विविधता और बिना रूप के, मैं कौन सा सत्य बोलो? पहेली का उत्तर: … Read more