प्रकृति की महिमा – Hindi Kavita

सूरज की किरणें चमक रहीं,
प्रकृति ने बांधी है बहुत सजावट।
फूलों की महक सबको भाती है,
यहां खुशहाली हर कोई पाती है।

चिड़ियों का गीत बज रहा है,
फलों के पेड़ों में जोश है बढ़ रहा है।
हरे-भरे रंगों से आसमान सजा है,
खुशियों की लहरें सबको भा रही है।

वन में रंगबिरंगे पक्षियों की भीड़ है,
झूले पर झूल रही है बच्चों की खुशियाँ।
हरियाली से भरे इस दृश्य को देखकर,
ह्रदय में सुख की भरी उमंग है।

सरसों के खेतों में खिल रहे हैं फूल,
मिट्टी की खुशबू में भरा है फूल।
बहारों के आगमन से चमक उठी है जगमग,
हर ओर खुशहाली का मन लग रहा है।

प्रकृति का यह रंग-रूप अद्भुत है,
मनोहारी है, प्रेम से युतित है।
इस खूबसूरती का अनुभव करने को,
यहां आओ, इसका लुत्फ़ चखने को।

सृष्टि का यह विलक्षण सौंदर्य देखो,
स्वर्ग का एक झलक यहां तो मिलेगा।
बाग़ों का रंगीन सब नज़ारा है,
प्रकृति की महिमा में खो जाओगे तुम।

आपको ये Hindi Kavita अच्छी लगी हो तो जरूर से शेर करें।

Leave a comment