आगे चलो – Hindi Kavita

ज़िन्दगी की राह में आगे चलो,
पीछे मुड़ कर न देखो, आगे चलो।

हर रोज़ नयी उम्मीद लेकर आगे बढ़ो,
ख्वाबों की परवाज़ को बढ़ाकर आगे चलो।

मंज़िलों की खुशियों को चुनो और चलो,
आसमान को छूकर ज़मीन पे लहराकर आगे चलो।

हार न मानो, हो जाओ निराश न कभी,
चमको और रौशनी से राह बनाकर आगे चलो।

संघर्षों का मुकाबला करो हौसले से,
हर रास्ते की कठिनाइयों को तोड़कर आगे चलो।

प्यार के नज़रिए से जगा दो इस दुनिया को,
अपने दिल में ख़ुशी की धड़कन बढ़ाकर आगे चलो।

क्योंकि ज़िंदगी का आदान-प्रदान है सिर्फ़ एक,
खुशियों की बस्ती को बनाकर आगे चलो।

इस Hindi Kavita को जरूर शेर कीजिएगा।

Leave a comment