बहार का स्वागत – Hindi Kavita

भारी ठंडक के बाद,
आती है वो खुशनुमा बहार।
फूल खिलते हैं हर तरफ,
लगता है जैसे हो कोई त्योहार।

बहार आती है, ले के साथ
हरियाली और नवीनता का प्यार।
बच्चों की हंसी, पक्षियों की गीत,
मन भर देता है आनंद से बेहिसाब प्यार।

बहार का मौसम, जीवन को देता नई उमंग,
हर दिल को भर देता खुशियों से अंग।
हम सब को याद दिलाती है ये,
जीवन में आगे बढ़ने की चाह।

बहार, तुझे स्वागत करते हैं हम,
तेरे आने से रंगीन होती है ज़िन्दगी की धरा।
तुझे देख, हर मन में उमड़ता है खुशी का सागर,
जैसे, मन के अंदर खिल उठी हो कोई अनोखी बहार।

Leave a comment