समझदार छोटा तोता – Hindi Story for Kids

एक समय की बात है, एक घने भारतीय जंगल में पीकू नाम का एक छोटा तोता रहता था। पीकू होनहार, मिलनसार और सभी का चहेता था।

इसी जंगल में एक जादुई आम का पेड़ था। पेड़ में एक अनोखा गुण था। यदि आप दयालु शब्द बोलते हैं, तो यह आपको रसीले आम देगा। यदि आपने कठोर वचन बोले तो उसका कोई फल नहीं होगा।

पीकू अक्सर इस आम के पेड़ पर जाया करता था। “नमस्ते, प्यारे पेड़। आज तुम बहुत मजबूत और सुंदर लग रही हो!” वह कह सकता है। हर बार पेड़ ने उस पर स्वादिष्ट आमों की बौछार कर दी।

मोमो नाम के एक लालची बंदर ने यह देखा। मोमो को हमेशा आसान भोजन की तलाश रहती थी। “मुझे इस तोते का रहस्य सीखना चाहिए,” उसने सोचा।

एक दिन मोमो ने पीकू का पीछा किया। उसने पीकू को पेड़ से बात करते देखा। पीकू के जाने के बाद बंदर तेजी से पेड़ के पास पहुंचा।

मोमो ने दयालु शब्दों के बजाय अशिष्टता से बात की। “अब मुझे आम दो!” उसने मांग की। नाराज होकर पेड़ ने कोई आम नहीं गिराया।

निराश होकर मोमो और भी जोर से चिल्लाया, “मैंने कहा, मुझे आम दो!” फिर भी पेड़ चुप रहा। मोमो चला गया, भूखा और गुस्से में।

अगले दिन पीकू ने मोमो को उदास देखा। “क्या बात है, मोमो?” पीकू ने पूछा। “पेड़ मुझे कोई आम नहीं देगा,” मोमो ने उत्तर दिया।

पीकू मुस्कुराया और बोला, “तुम्हें पेड़ से प्यार से बात करनी चाहिए, मोमो। यह केवल अच्छे शब्दों का जवाब देता है।” मोमो हैरान दिखे लेकिन उन्होंने कोशिश करने का फैसला किया।

मोमो फिर पेड़ पर चढ़ गया। इस बार उसने कहा, “हैलो, सुंदर पेड़, क्या मुझे कुछ आम मिल सकते हैं?” पेड़ ने प्रसन्न होकर कुछ आम गिरा दिए। मोमो बहुत खुश हुआ।

उस दिन से मोमो ने वाणी का महत्व सीखा। उसने असभ्य होना बंद कर दिया और सभी के साथ सम्मान से पेश आने लगा। जंगल एक खुशहाल जगह बन गया।

This Hindi Story for Kids Says That:

इस कहानी में, पीकू ज्ञान का प्रतीक है और मोमो उन लोगों का प्रतिनिधित्व करता है जो अपना पाठ देर से सीखते हैं। कहानी का नैतिक है: विवेकपूर्ण शब्द चमत्कार कर सकते हैं। सभी के साथ अच्छी तरह से पेश आओ और दया का व्यवहार करो।

Leave a comment